Early Symptoms of Black Fungus in Hindi
हेल्थ

कहीं कोरोना के बाद आप भी ब्लैक फंगस के शिकार तो नहीं हो रहे

कोरोना वायरस जैसे हानिकारक संकट ने भारत देश के साथ-साथ पूरे विश्व में भी तबाही मचा रखी है। इस महामारी की दूसरी लहर ने भारत के स्वास्थ्य महकमे को बुरी तरह से प्रभावित किया है। देशभर में अस्पतालों में बैड की कमी और ऑक्सीजन ना मिलने के कारण कई मासूम लोगों ने अपनी जान गंवा दी और कई परिवारों ने अपने प्रिय जनों को खो दिया। इस भयंकर महामारी ने देश को पूरी तरह से अस्त-व्यस्त कर दिया है। भले ही आज की परिस्थिति कोरोना संक्रमण के पीक के समय से काफी अलग और सुधरी हुई नजर आ रही है। परंतु अब कोरोनावायरस संक्रमण के बाद ब्लैक फंगस नाम की बीमारी ने देश के लोगों की दिक्कत को काफी हद तक बढ़ा दिया है। दरअसल इस बीमारी को भी कई राज्यों द्वारा महामारी घोषित किया जा चुका है। क्योंकि यह ब्लैक फंगस संक्रमण भी कई लोगों की जान ले चुका है और महामारी की तरह ही फैल रहा है।

देखा जाए तो इस ब्लैक फंगस को बढ़ने से रोका जा सकता है। यदि इसके शुरुआती लक्षणों की ही पहचान कर ली जाए तो इसका बेहतर इलाज संभव हो सकता है। इसके लिए सभी लोगों को ब्लैक फंगस के लक्षणों के बारे में अवश्य ही पूरा ज्ञान होना चाहिए। शुरुआत के दिनों में ही इसके बारे में पता चलने से इलाज में देरी नहीं होती और यह ठीक किया जा सकता है। तो आइए जानते हैं की ब्लैक फंगस के कारण क्या-क्या लक्षण उत्पन्न हो सकते हैं और इनके बचाव के लिए किस तरह से सावधानी बरतने की जरूरत है।


चेहरे पर सूजन या दर्द होना


चेहरे पर सूजन कई कारणों से आ सकती है। लोगों के कई क्रियाकलाप या फिर अक्सर कुछ छोटी-मोटी गलतियों के कारण चेहरे पर दर्द और सूजन जैसी दिक्कतें होने लगती हैं। कभी-कभी जब चेहरे को गुब्बारे की तरह फुला दिया जाता है या फिर कोई व्यक्ति कभी ज्यादा बोल या हंस लेता है तो ऐसी स्थिति में मुंह में दर्द होना एक आम बात है। परंतु यह थोड़ी देर के लिए होता है और कुछ समय बात ठीक भी हो जाता है। ब्लैक फंगस के ज्यादातर मामलों में चेहरे के कई हिस्सों में बिना किसी वजह के सूजन आने लगती है और काफी दर्द भी होता है। इसमें मसूड़ों या दांतों में किसी भी तरह का दर्द और चेहरे के किसी भी भाग में सूजन और तेज दर्द का एहसास होता है। यदि आपको किसी भी व्यक्ति में ऐसे लक्षण दिखाई दें तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। हो सकता है यह ब्लैक फंगस के शुरुआती लक्षणों में शामिल हो।


नाक के आसपास काले धब्बे होना


कई लोग अपने चेहरे पर होने वाले काले धब्बों से काफी परेशान रहते हैं। हालांकि यह स्वाभाविक सी बात है। चेहरे पर होने वाले कील मुंहासे और दाग धब्बे आमतौर पर होते रहते हैं। परंतु यदि किसी की नाक के आस पास वाले हिस्से में अधिक काले रंग के धब्बे दिखाई दे रहे हैं और नाक में बहुत तेज दर्द महसूस हो रहा है तो यह किसी गंभीर बीमारी के संकेत हो सकते हैं। यदि नाक बंद होने जैसी कई समस्याओं का सामना किसी व्यक्ति को करना पड़ रहा है तो उसे तुरंत डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। यह ब्लैक फंगस के शुरुआती लक्षणों में आता है। ऐसा इसलिए क्योंकि ब्लैक फंगस किसी भी व्यक्ति के नाक पर सबसे पहले प्रभाव छोड़ता है और इस हमले से नाक के आसपास की जगह काली होने लगती है या काले धब्बे दिखाई देते हैं। इसलिए बिल्कुल भी देर न करते हुए जल्द से जल्द डॉक्टर के पास जाकर इसका इलाज करवाएं।


सिर में दर्द होना


कई व्यक्तियों के सिर में दर्द विभिन्न कारणों से हो सकता है। इनमें स्वाभाविक से होने वाले सिर दर्द के लिए लोग दवाओं का सेवन कर लेते हैं। इसके अलावा बाम या किसी भी तरह का पेन रिलीफ करने वाली दवाई लगाने से सिर दर्द दूर हो जाता है। परंतु यदि दवाई खाने के बाद भी आपका सर दर्द लगातार बना हुआ है और ठीक नहीं हो रहा है तो ऐसी स्थिति में आपको तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। क्योंकि साधारण से दिखने वाले इस सिर दर्द का कारण ब्लैक फंगस हो सकता है। इसलिए इस लगातार होने वाले सिर दर्द को भूलकर भी हल्के में नहीं लेना चाहिए। इस तरह से विभिन्न लक्षणों को पहचान कर जल्द से जल्द इसका इलाज करवाने में ही फायदा है।


चेहरा सुन्न हो जाना


अक्सर लोग चेहरे पर होने वाले कई तरह की दिक्कतों के बारे में बताते हैं। परंतु ब्लैक फंगस की वजह से चेहरे और मुंह का अधिकतर हिस्सा सुन्न हो जाता है। इसके अलावा कई लोगों को दांत ढीले होने की शिकायत होती है। इसके अलावा कई ऐसे अन्य लक्षण हैं जो ब्लैक फंगस के शुरुआती लक्षण हो सकते हैं। ऐसी परिस्थिति में कभी भी इस तरह लक्षणों को हल्के में नहीं लेना चाहिए। इस स्थिति में सुधार की कोशिश अवश्य करनी चाहिए क्योंकि ब्लैक फंगस सबसे पहले व्यक्ति के चेहरे और मुंह पर हमला करने की कोशिश करता है। इसलिए चेहरे और मुंह पर होने वाले लक्षण को पहचान कर इनका इलाज तुरंत कराना आवश्यक है।

डिस्क्लेमर: यह टिप्स और सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं, इन्हे किसी डॉक्टर या फिर स्वस्थ्य स्पेशलिस्ट की सलाह के तौर पर न लें, बिमारी या किसी संक्रमण की स्थिति में डॉक्टर की सलाह से ही अपना इलाज करवाएं।